Home > college days (Page 4)

sl.num.005 कि चाँद सा चेहरा है इसका या फिर ये खुद चाँद है..mishra’s lover

Sl.num.005 गलत फहमियों को एक-डेढ़ साल से ऊपर हो चुका था ... और ये बस उसीनॉर्मल गति से चल रही थी। क्यूंकी न तो बो मेरे कॉलेज मे ओर ना

continue reading

sl.num.004 बढ़ जाने दो गलत-फहमियाँ….mishra’s lover

Sl.num.004 दिन ,सफते और महीने बड़े ही तेजी से गुजर रहे थे । कभी-कभी रोज , कभी कुछ दिन के बाद , तो कभी कुछ ज्यादा दिन के बाद ,अब कही

continue reading