Wednesday, January 17, 2018
Home > student story (Page 3)

sl.num.011 हमारी उन्नति काफी जोरों पर थी mishra’s lover

sl. num.11 एक दो दिन मे भैया ने पम्पलेट छपा ली । और फिर भैया ने कहा की इन सब को कल चिपकाना है । लेकिन आखिरी निर्णय ये था की हम लोग खुद ही उनको हर जगह चिपकाएँगे।। मुझे कोई ऐतराज नहीं था इस बात से ,समय निश्चित हुआ अगले दिन सुबह 4

continue reading

sl.num.010 लोग तो सिर्फ effect थे और मे special effect mishra’s lover

sl.num.10 अगले ही दिन भैया ने मुझे बो जगह दिखाई ,जहां उनका कोचिंग सेट-उप करने क्ला बिचार था ।जगह अच्छी थी , उसके अलावा, उस जगह की लोकेशन काफी अच्छी थी ,क्यूंकी वहाँ आस पास भी कोई कोचिंग इंस्टीट्यूट नहीं था । और उस जगह का नाम था .... आवास-विकास कॉलोनी। उसके अगले दिन ,वो सारे

continue reading

Enjoy this blog? Please spread the word :)